Friday, November 23, 2018

उत्तराखंड की सबसे प्रसिद्ध जगहें भाग-1

उत्तराखंड पूर्व में उत्तराँचल का गठन 9 नवंबर 2000 को हुआ। उत्तराखंड में कई देवस्थल है इसलिए उत्तराखंड को देवभूमि भी कहा जाता है। प्रकृति ने उत्तराखंड को फुरसत में बनाया है,उत्तराखंड का चप्पा चप्पा सूंदर प्राकृतिक दृश्यों से भरपूर है।

अगर आप उत्तराखंड से है या उत्तराखंड आने का विचार बनाने जा रहे है तो यह पोस्ट आप के लिए है।यह पोस्ट उन सभी जगहों की जानकारी का संकलन है जहां आपको एक बार जरूर जाना चाहिए।

उत्तराखंड की सभी प्रसिद्ध जगहों को एक भाग में सूचीबद्ध करना मुमकिन  नहीं इसलिए  मेरा प्रयास रहेगा के सभी अहम् स्थल को कुछ भागो में सूचीबद्ध कर सकू। तो चलिए जानते है "भाग एक" में कौन  कौन  से प्रसिद्ध जगह है :-

1. देहरादून:-

देहरादून हिमालय की तलहटी में बसा एक सुंदर शहर है जिसे  उत्तराखंड की अस्थायी राजधानी का दर्जा मिला है ,देहरादून उत्तरखंड के सबसे विकसित शहरो में से एक शहर है। देहरादून पर्यटन की दृष्टि से भी सम्पन्न है।
top 10 place to visit in uttarakhand
 अगर आप देहरादून घूमने आये तो आप इन स्थानों में एक बार जरूर जाए :-
  • आसन बैराज 
  • मालसी डिअर पार्क 
  • मिन्ड्रोलिंग मोनास्ट्री 
  • राजाजी नैशनल पार्क 
  • राम ताल हॉर्टिकल्चर गार्डन 
  • रोब्बर'स केव 
  • शहस्त्रधारा  
  •  साईं दरबार 
  • टपकेश्वर महादेव 
  • टाइगर फाल्स 
  • FRI(फारेस्ट रीसर्च इंस्टीट्यूट) 

2. मसूरी :-

मसूरी जिसे "पहाड़ो की रानी" भी कहा जाता है,मसूरी को यह नाम अपने सुंदर बर्फ से ढके पहाड़ो के कारण मिला है यहाँ हर तरफ आपको मनमोहक दृश्य देखने को मिलेंगे।


मसूरी समुद्रतल से 6000 फ़ीट ऊपर स्तिथ है जिसके कारण भीषण गर्मी पड़ने पर भी यहाँ तापमान ठंडा रहता है। वर्ष भर यहाँ पर्यटकों का आवागमन लगा रहता है।
                                     
अगर आप भी मसूरी आने का सोच रहे है तो इन जगहों पर जरूर एक बार जाए :-
  • कैमल्स बैक रोड 
  • क्राइस्ट चर्च 
  • धनौल्टी 
  • गन हिल 
  • केम्पटी फाल्स 
  • लाल टिब्बा 
  • मॉल रोड 
  • सर जॉर्ज एवेरेस्ट हाउस 

3. हरिद्वार :-

हरिद्वार जिसे हरद्वार के नाम से भी जाना जाता है,हिन्दुओ का एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है। पौराणिक मान्यता के अनुसार हरिद्वार ही वही स्थल है जहाँ  शिव जी ने अपनी जटाओ से माँ गंगा को धरती पर अवतरित किया था,इस कारण हरिद्वार को "गंगाद्वार" भी कहा जाता है। 
हरिद्वार/हरद्वार को  हिन्दूओ के सात पवित्र स्थल (सप्त पूरी) में से एक है।
                                                               चित्र:-हर की पौड़ी 
पौराणिक कथा के अनुसार "समुद्रमंथन के समय जब अमृत कलश लेकर जा रहे थे तो कुछ स्थानों पर अमृत कलश से कुछ बूंदे हरिद्वार में भी गिरी ,इसी कथा के कारण हरिद्वार में  हर 12 वर्षो  में कुम्भ मेला आयोजित किया जाता है। 
हरिद्वार  हिन्दूओ  का पौराणिक तीर्थ है ,जो अपने घाटों के लिए प्रसिद्ध है ,इन घाटों में "हर की पौड़ी" विख्यात है। हरिद्वार में माँ पारवती के शक्ति पीठ "चंडी देवी और मनसा देवी " विराजमान है। जो हरिद्वार को तीर्थो का केंद्र बिंदु बनता है।   
अगर आप हरिद्वार आने का विचार बना रहे है तो इन स्थानों में जरूर जाए :-
  • हर की पौड़ी 
  • चंडी देवी 
  • मनसा देवी 
  • विष्णु घात 
  • दक्षप्रजापति मंदिर 


4.ऋषिकेश:-

ऋषिकेश जिसे "तीर्थ नगरी" के नाम से जाना जाता है जो देहरादून जिले के अंतर्गत आता है। ऋषिकेश में साल भर पर्यटकों का आवागमन लगा रहता है ,ऋषिकेश में देश-विदेश से कई पर्यटक यहाँ स्थित स्थलों में घूमने के साथ-साथ यहाँ योग सीखने  भी आते है। 
ऋषिकेश में पर्यटन स्थल के साथ साथ कई  योग प्रशिक्षण संसथान है इसलिए ऋषिकेश को "विश्व की योग राजधानी और योग नगरी के नाम से भी जाना जाता है। 
ऋषिकेश में पर्यटक राफ्टिंग,बंजी जंपिंग  आदि का लुत्फ़ उठाने दूर दूर से आते है। 

अगर आप उत्तराखंड आये तो एक बार ऋषिकेश स्तिथ इन स्थानों पर भी जरूर जाए :-
  • राम झूला 
  • लक्ष्मण झूला 
  • त्रिवेणी घाट 
  • नीर झरना 
  • पटना झरना 
  • कौडियाला 
  • शिवपुरी 
  • महर्षि महेश आश्रम(बीटल्स आश्रम)/84 कुटिया 
  • चोटीवाला रेस्टॉरेंट  

5.नैनीताल :-

नैनीताल उत्तराखंड के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में एक बेहद अहम् स्थान रखता है ,आपकी उत्तराखंड ट्रिप बिना नैनीताल गए अधूरी ही है। नैनीताल उत्तराखंड के कुमाऊँ मंडल में आता है। नैनीताल को झीलों का शहर भी कहा जाता है। नैनीताल को उसका नाम नैनीताल में स्तिथ आम के आकर की नैनी झील के कारण  मिला है। 
यहाँ हर साल पर्यटकों का आवागमन लगा रहता है। पर्यटक यहाँ झील पर बोटिंग का लुत्फ़ लेते है। 


आप नैनीताल आये तो इन जगहों पर एक बार जरूर जाए :-
  • नैनी झील 
  • माल रोड 
  • नैना देवी मंदिर 
  • स्नो व्यू पॉइंट 
  • ज्योलिकोट 
  • नैना पर्वत शिखर 

No comments:

Post a Comment